जानिए Kabir Das Ke Guru Kaun The और कबीर कौन थे?

इस ब्लॉग के माध्यम से हमने कबीर के प्रमुख विचार और साथ ही Kabir Das Ke Guru Kaun The जैसी जानकरी साझा करेंगे।

संत कबीर कौन थे?

संत कबीर के बारे में अभी तक जो भी जानकारी प्राप्त हुई है। इसकी प्रामाणिकता की अभी कोई पुष्टि नहीं हुई है। क्योंकि उन्होंने अपने जीवन के बारे में अक्सर कुछ भी नहीं बताया है। लेकिन जो बात सर्वमान्य है, वह यह है कि उनका जन्म 15वीं शताब्दी में वाराणसी, यूपी में हुआ था। माना जाता है कि वह एक मुस्लिम परिवार से ताल्लुक रखते थे। लेकिन वे कभी किसी धर्म विशेष के समर्थक या विरोधी के रूप में अपने विचार व्यक्त नहीं करते थे। 

वह हमेशा इंसानियत की बात करते थे। लेकिन प्राय: उन्होंने मूर्ति पूजा का विरोध किया, जिसके कारण लोगों को लगा कि वह हिन्दू धर्म का विरोध करते हैं। लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं था। कहा जाता है कि कबीर कमल के फूल पर अपने माता-पिता से मिले थे। इसके साथ ही उन्होंने मगहर जाकर शरीर त्याग किया। जहां आज उनकी समाधि भी है। जिसे देखने के लिए दुनिया भर से लोग आते हैं।

Kabir Das Ke Guru Kaun The?

वैसे भी संत कबीर सर्वज्ञ थे। हालाँकि, उन्होंने फिर भी रामानंद को अपना गुरु नियुक्त किया। क्योंकि उसने सोचा कि अगर उसके पास शिक्षक नहीं है, तो लोग उस पर भरोसा नहीं करेंगे और मान लेंगे कि उसके पास शिक्षक नहीं है। ऐसे में उनकी जानकारी बेकार है।

लेकिन उन्हें गुरु का पता लगाने में परेशानी हुई। क्योंकि उस समय अस्पृश्यता की शक्ति बहुत प्रबल थी। ऐसी स्थिति में जब वे अपने गुरु रामानंद के पास गए तो उन्होंने कबीर को अपना शिष्य मानने से साफ इंकार कर दिया। कोई ऊंची जाति का आदमी किसी नीची जाति के आदमी को अपना शिष्य भी नहीं बना सकता था क्योंकि वह नीची जाति का था और क्योंकि उन दिनों छुआछूत की भावना इतनी प्रबल थी।

कबीर ने तब एक शरारत की। दरअसल रामानंद के बगल में गंगा में नित्य स्नान करते थे। कबीर ने एक दिन सुबह जल्दी जाने और गंगा की छत पर जाने का फैसला किया। ऐसे में सुबह अँधेरे में आने पर रामानंद उनका चक्‍कर लगा लेंगे। इस बिंदु तक छूने की सोच दूर नहीं होगी।

कबीर उसका अनुपालन करते हैं। रामानंद उस दिन गंगा नदी के तट पर पहुंचे। फलस्वरूप वह अचानक कबीर से टकरा जाते है। कबीर अचानक रोने लगते है। रामानंद फिर बिना सोचे-समझे उन्हें चुप करा देते हैं। और उन्हें अपने कुटिया में ले आओ। रामानंद को लगता है कि ये कोई बच्‍चा है जो देर रात को रास्‍ता भटक गया होगा और यहीं सो गया होगा।

रामानंद फिर कबीर को अपने घर ले जाते हैं। लेकिन जब तक उन्हें पता चलता है कि वह एक नीच जाति का कबीर है, तब तक बहुत देर हो चुकी होती है। इसके बाद, कबीर और रामानंद ने गुरु और शिष्य के रूप में अपना संबंध स्थापित किया। कबीर तब रामानंद के छात्र बन जाते हैं और इसके विपरीत।

संत कबीर कौन थे?, Kabir Das Ke Guru Kaun The जानने के बाद जानेगे की कबीर के प्रमुख विचार क्या है?

कबीर के प्रमुख विचार

  • कबीर कहते थे कि पूजा पाठ की जगह कर्म में यकीन रखो। इसलिए अपने अस्तित्व के अंत में मोक्ष प्राप्त करने के लिए हमेशा अच्छे कर्म करें।
  • कबीर कहते थे कि आपकी जाति या धर्म की परवाह किए बिना, आपको मानवता के प्रति अपने दायित्वों को निभाना चाहिए। परिणामस्वरूप, हमेशा दूसरों की सहायता करें।
  • उन्होंने दावा किया कि जीवन में दृढ़ता ही सफलता की कुंजी है। यहां तक कि अगर एक माली एक दिन में अपने पौधे को 100 कंटेनरों से सींचता है, तब भी जब उन्हें फूल देना चाहिए तब भी वह फूल पैदा करेगा।
  • मनुष्य के प्रयास से बड़ा कभी कुछ नहीं होता। इसके लिए उनके अच्छे और नेक विचारों की जरूरत है।

निष्कर्ष 

आज इस ब्लॉग के माध्यम से जाना है की कबीर कौन थे, और Kabir Das Ke Guru Kaun The, और उनसे जुडी अन्य जानकारी प्राप्त हुई है।

Leave a Comment